मुस्लिम धार्मिक गुरु को यौन अपराधों के मामले में 1075 साल की सजा

अंकारा: तुर्की में एक मुस्लिम धार्मिक गुरु को यौन अपराधों के मामले में 1075 साल की सजा सुनाई गई है. इस धार्मिक नेता का नाम अदनान ओकतार है और ये बेहद चर्चित धार्मिक गुरु रहा है. अदनान ओकतार के ऊपर 6 से ज्यादा देशों के 45 से अधिक महिलाओं और नाबालिगों ने यौन शोषण के आरोप लगाए थे. अदनान तुर्की के लोगों को कट्टरपंथी चीजों के बारे में उपदेश देता था. अदनान को साल 2018 में गिरफ्तार किया गया था और अब उसके छूटने की कोई आशा नहीं है.

Advertisements

अदनान को यह सजा इस्‍तांबुल की एक अदालत ने 10 अलग-अलग अपराधों में दी है. जानकारी के मुताबिक उसके ऊपर 6 से ज्यादा देशों के 45 से अधिक महिलाओं और नाबालिगों ने यौन शोषण के आरोप लगाए थे. अदनान तुर्की के लोगों को कट्टरपंथी चीजों के बारे में उपदेश देता था. एक समय उसे दुनिया के शीर्ष 50 मुस्लिम शख्सियतों में शुमार किया जाता था और उसकी लिखी तमाम धार्मिक किताबें बेस्ट सेलर रही हैं.

Advertisements

तुर्की में अदनान पर सेक्स क्राइम, नाबालिगों के यौन शोषण, फ्रॉड और राजनीतिक तथा सैन्‍य जासूसी करने का आरोप लगाया गया है. करीब 236 लोगों के खिलाफ मामला चलाया गया और इनमें से 78 लोग अरेस्‍ट किए गए. खास बात ये है कि अदनान कभी तुर्की के मौजूदा राष्ट्टपति रैय्यप एर्दोगान का करीबी हुआ करता था. वो एर्दोगान की पार्टी का सदस्य भी रहा है.

Advertisements

अदनान ओकतार ने पिछले साल दिसंबर में सुनवाई के दौरान जज को बताया था कि उसकी करीब 1000 गर्लफ्रेंड  हैं. उसने कहा था कि महिलाओं के प्रति मेरे दिल में प्‍यार उमड़ रहा है. प्‍यार इंसान की खासियत है. यह एक मुसलमान की खूबी है. एक अन्‍य सवाल के जवाब में उसने कहा था-मैं बाप बनने की असाधारण क्षमता रखता हूं. एक महिला ने सुनवाई के दौरान बताया कि अदनान ने कई बार उनके और अन्‍य महिलाओं के साथ यौन शोषण किया.

Advertisements

अदनान के घर से 69 हजार गर्भनिरोधक गोलियां मिली थीं. कई महिलाओं के साथ जबरन रेप किया गया और उन्‍हें गर्भनिरोधक दवाओं को खाने के लिए मजबूर किया गया. अदनान सबसे पहले वर्ष 1990 के दशक में दुनिया के सामने आया था. उसके बाद उसने धर्म को आधार बनाकर बेशुमार कमाई की और तुर्की के सबसे ताकतवर लोगों में से एक बन गया.

अदनान को साल 1999 में भी गिरफ्तार किया गया था. इस मामले में उसे तीन साल जेल की सजा सुनाई गई थी. लेकिन बाद मे कोर्ट ने उसे बरी कर दिया था.

(इनपुट – zee news )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *