आमी में गंगा महाआरती में उमड़ा आस्था का शौलाब।

Advertisements
Spread the love

सारण छपराः दिघवारा स्थित पुण्य नगरी आमी में गंगा तट पर गुरुवार का गंगा महाआरती का आयोजन किया गया। इस आयोजन की खास बात यह रही कि श्रद‌्धालुओं ने न सिर्फ मां गंगे से अपने लिए आशीर्वाद मांगा, बल्कि खुद भी उनकी निर्मलता-अविरलता बनाए रखने का वचन दिया।

Advertisements

 

गंगा समग्र, उत्तर बिहार की ओर से आयोजित गंगा महाआरती के बाद लोगों ने गंगा तट पर पौधे लगाने और कूड़ा आदि नहीं फेंकने का संकल्प लिया। यही नहीं, गंगा तटीय पर्यावरण को बनाए रखने के लिए किसानों ने भी नदी किनारे के खेतों में जैविक आधारित खेती करने की बात कही।

Advertisements

 

वाराणसी से आए आचार्य रोहित उपाध्याय के नेतृत्व में हजारों श्रद्धालुओं ने महाआरती में हिस्सा लिया। महाआरती से पूर्व आमी मंदिर के पुजारी नीलू बाबा और समाजसेवी राजेश सिंह ने वैदिक रीति-रिवाज से अपनी धर्मपत्नी के साथ गंगा पूजन किया। इसी के साथ कलिमल हारनी गंगे दुख निवारिणी गंगे.. के जयघोष से गंगा तट गूंज उठा। महाआरती के दौरान घाट पर भीड़ स्वयं अनुशासित नजर आई और कोई कोलाहल नहीं था। गंगा तट देर तक मां गंगे के जयकारे से गूंजता रहा।

Advertisements

 

गंगा महाआरती के इस आयोजन के दौरान प्रमुख रूप से गंगा समग्र, उत्तर बिहार के सह संयोजक और चिरांद विकास परिषद के सचिव श्री राम तिवारी, जिला संयोजक डॉ कुमारी किरणसिंह, सह संयोजक राशेश्वर सिंह,बिमलेश तिवारी, रघुनाथ सिंह, कुमारी किरण सिंह, अशोक सिंह, अनिल सिंह, अर्देन्धू शेखर, कुन्दन सिंह, बीरेंद्र सिंह,

Advertisements

 

राजेश तिवारी, राकेश सिंह, अजय सिंह, जयराम सिंह, बिठल बाबा, मुनचुन बाबा, पूर्व प्रमुख जनार्दन सिंह सहित कई गणमान्य लोग मौजूद रहे। इन गणमान्य लोगों के साथ ही घाट पर मौजूद सभी ने मां गंगा की निर्मलता बनाए रखने के लिए किसी भी तरह का कूड़ा नदी में प्रवाहित नहीं करने और नदी तट पर नहीं फेंकने का संकल्प लिया।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published.