सारण में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने के लिए जिलाधिकारी ने शुरू की पहल

Advertisements
Spread the love

सारण छपराः वैश्विक कोरोना महामारी के दौर में ऑक्सीजन की किल्लत के बीच एक अच्छी खबर है। सारण के जिलाधिकारी डॉ. नीलेश रामचंद्र देवरे ने सदर अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने के लिए बिहार ग्रिड कंपनी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक महेंद्र कुमार सिंह को पत्र भेजा है।

Advertisements

 

जारी पत्र में जिलाधिकारी ने कहा है कि ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किये जाने के लिए सदर अस्पताल परिसर में पर्याप्त जमीन की उपलब्धता होने के बावजूद प्लांट के नहीं रहने के कारण मरीजों के उचित ईलाज के लिए ऑक्सीजन उपलब्ध कराने में काफी असुविधा होती है। इस परिप्रेक्ष्य में उन्होंने अनुरोध किया है कि कोरोना जैसी वैश्विक महामारी के मद्देनजर सदर अस्पताल छपरा में 30Nm3/HR @90-92% purity पीएसए टेक्नोलॉजी बेस्ड ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने करने के लिए आपकी कंपनी द्वारा सीआरएस के अंतर्गत संकलित प्रायफलन के अनुसार वित्तीय सहायता प्रदान करने की कृपा की जाय। ताकि कोरोना संक्रमित सहित अन्य मरीजों के ईलाज में सहूलियत हो सके। ऑक्सीजन प्लांट लगाने की अनुमानित लागत 57.12 लाख रूपये है।

Advertisements

जिलाधिकारी डॉ. नीलेश रामचंद्र देवरे ने कहा कि सारण जिले में वर्तमान में लगभग 4000 से अधिक कोरोना से संक्रमित मरीज है। जिसमें सदर अस्पताल के कोविड केयर सेन्टर में अभी कोरोना से संक्रमित 82 मरीज भरती है तथा पूरे अप्रैल माह में लगभग 200 से अधिक कोरोना संक्रमित मरीज सदर अस्पताल में भर्ती किये गये थे। इसके साथ ही सामान्य तौर पर भी सदर अस्पताल के इमरजेन्सी वार्ड में लगभग 25-30 मरीज, एसएनसीयू में 12 बजे तथा आईसीयू में 06 मरीज बराबर ऑक्सीजन पर रहते हैं। इस तरह सदर अस्पताल में लगभग 150 ऐसे मरीज रहते हैं, जिन्हें ऑक्सीजन की आवश्यकता रहती है।

Advertisements

 

जिलाधिकारी डॉ. नीलेश रामचंद्र देवरे ने बताया कि बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन (बीएमजीएफ) के सहयोग से जिले में ऑक्सीजन प्लांट की स्थापना की जायेगी। इस ऑक्सीजन प्लांट की क्षमता लगभग 1000 एलपीएम होगी। पीएसए का मतलब प्रेशर स्विंग अब्सॉर्प्शन ऑक्सीजन प्लांट है।

Advertisements

 

सदर अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट लग जाने के बाद हद तक समस्या दूर हो जाएगी। सदर अस्पताल सहित अन्य जगह चल रहे कोविड केयर सेंटर को भी यहां से ऑक्सीजन उपलब्ध कराया जा सकेगा। ऐसे में ऑक्सीजन की कमी दूर होने के बाद कोरोना मरीजों को अन्य जगहों के लिए रेफर करने की समस्या भी खत्म हो जाएगी।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *