क्वाँड देशो के प्रमुखों का मेजबानी करेंगे बायडेन मोदी होंगे शामिल।

Advertisements
Spread the love

नेशनल डेक्सः (सूत्र) अमरिका के राष्ट्रपति जो बायडेन 24 सिंतबर को वाशिंगटन डीसी में क्वाड समूह के नेताओं की पहले व्यक्तिगत शिखर सम्मेलन की मेजबानी करेंगे। यह ऐलान व्हाइट हाउस की ओर से किया गया है। बायडेन व्हाइट हाउस में पीएम नरेंद्र मोदी, ऑस्ट्रेलियाई पीएम स्कॉट मॉरिसन और जापान के प्रधानमंत्री योशीहिदे सुगा का स्वागत करेंगे।

Advertisements

इस शिखर सम्मेलन के दौरान पीएम मोदी का राष्ट्रपति जो बायडेन के साथ द्विपक्षीय बैठक करने का कार्यक्रम है। मोदी की अमेरिका यात्रा की तैयारियों के तहत भारत और अमेरिका ने कई बैठकें की और ऐसी जानकारी है कि यह मुद्दा विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला की हाल की वाशिंगटन यात्रा के दौरान भी उठा था।

Advertisements

इससे पहले राष्ट्रपति बायडेन ने मार्च में क्वाड नेताओं के पहले शिखर सम्मेलन की डिजिटल तरीके से मेजबानी की थी जिसमें स्वतंत्र, उन्मुक्त, समावेशी, लोकतांत्रिक मूल्यों से जुड़े हिंद-प्रशांत क्षेत्र का संकल्प व्यक्त किया गया था जो जबरन कब्जे जैसी बाधाओं से मुक्त हो। इसे एक तरह से चीन के लिए संदेश के तौर पर देखा गया था। मोदी ने इससे पहले सितंबर 2019 में अमेरिका का दौरा किया था जब उन्होंने और तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ह्यूस्टन में हाउडी मोदी कार्यक्रम को संबोधित किया था।

Advertisements

आपको बता दें कि इससे पहले भारत और ऑस्ट्रेलिया ने शनिवार को उन आलोचनाओं को खारिज कर दिया था कि ‘क्वाड’ एक प्रकार का ‘एशियाई नाटो’ है। विदेश मंत्री एस.जयशंकर ने कहा कि यह जरूरी है कि वास्तविकता को ‘गलत तरीके से प्रस्तुत’ नहीं किया जाए। विदेश मंत्री जयशंकर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष मारिसे पायने और पीटर डटन के साथ यहां ‘टू प्लस टू’ वार्ता की थी। ‘क्वाड’ समूह को एशिया के नाटो के रूप में वर्णित करने के बारे में पूछे जाने पर जयशंकर ने कहा, ‘‘हम खुद को क्वाड कहते हैं और क्वाड एक ऐसा मंच है जहां चार देश अपने लाभ और दुनिया के लाभ के लिए सहयोग करने आए हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि पीछे मुड़कर देखें तो नाटो जैसा शब्द शीत युद्ध वाला शब्द है। मुझे लगता है कि क्वाड भविष्य में दिखता है, यह वैश्वीकरण को दर्शाता है, यह एक साथ काम करने के लिए देशों की जरूरतों को दर्शाता है।’’

Advertisements

जयशंकर ने कहा कि क्वाड वर्तमान में टीके, आपूर्ति श्रृंखला, शिक्षा और कनेक्टिविटी जैसे मुद्दों पर केंद्रित है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस तरह के मुद्दों और नाटो (उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन) या इस तरह के किसी अन्य संगठनों के बीच कोई संबंध नहीं देखता। इसलिए मुझे लगता है कि यह जरूरी है कि गलत तरीके से प्रस्तुत न किया जाए कि वहां की वास्तविकता क्या है।’’ स

Advertisements

मान विचार व्यक्त करते हुए पायने ने कहा कि ऑस्ट्रेलिया और भारत के संबंधों में फिर से नई ऊर्जा आई हैं, इसलिए क्वाड जैसे छोटे समूहों और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन या आसियान (दक्षिण पूर्वी एशियाई राष्ट्रों का संगठन) जैसे क्षेत्रीय मंच के जरिए काम करने का अवसर भी है। ऑस्ट्रेलिया की विदेश मंत्री ने कहा, ‘‘क्वाड सदस्य आसियान की केंद्रीयता के हिमायती हैं, हम आसियान के साथ सक्रिय रूप से जुड़े हैं। हम भारत-प्रशांत पर आसियान दृष्टिकोण के व्यावहारिक कार्यान्वयन का समर्थन करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *